Skip to main content

rajaram jaat history in Hindi

Rajaram Jaat History In Hindi

  • जन्म :  1670
  • मृत्यु : 1688
  • उत्तराधिकारी : चूड़ामन
  • पूर्वज : गोकुल सिंह
  • राजाराम जाट वो हिन्दू शेर हैं, जिसने अकबर की कब्र खोदकर अस्थियां जला डाली थी।

    भारत में औरंगज़ेब का शासन चल रहा था और हिन्दुओं का जीना मुश्किल हो गया था। औरंगज़ेब, जिसने अपने पिता को ही कैद कर लिया था, जिसने तख्त के लिए अपने भाइयॊं को ही मार दिया था वह भारत के हिन्दुओं को कैसे शांति से जीने दे सकता था? हिन्दुओं पर औरंगज़ेब के अत्याचार दिन प्रतिदिन बढ़ते ही जा रहे थे। औरंगज़ेब से लोहा लेने एक वीर बहादुर जाट तैयार हो गया जिसका नाम था राजाराम जाट। राजाराम जाट, भज्जासिंह का पुत्र था और सिनसिनवार जाटों का सरदार था। वह बहुमुखी प्रतिभा का धनी था, वह एक साहसी सैनिक और विलक्षण राजनीतिज्ञ था। उसने बड़ी चतुराई से जाटों के दो प्रमुख क़बीलों-सिनसिनवारों और सोघरियों (सोघरवालों) को आपस में मिलाया।

    राजाराम ने सिनसिनवार जाटों का, रामकी चाहर की अध्यक्षता में, सोगरिया जाटों के साथ-साथ जिनके पास सोगर का किला था, संगठन किया। उसने बन्दूकों का संग्रह किया और जंगलों में कच्चे दुर्ग बनाकर छावनियां कायम कीं। सबसे मुख्य शिक्षा उसने विद्राहियों को यह दी कि वे अपने सेनानायकों की आज्ञापालन में त्रुटि न आने दें। उसने विश्रृंखलित जाति को संगठित करके आक्रमणकारी के साथ ही चतुर सैनिक बना दिया।

    जिस प्रकार मुगलों ने हिन्दू मंदिरों को तोड़ा था उसी प्रकार राजाराम जाट उनके मकबरो और महलो को तोड़ते थे। राजाराम जाट के भय से मुगलों ने बाहर निकलना बन्द कर दिया था।

    राजाराम जाट की वीरता की बात औरंगज़ेब के कानों तक भी पहुंची। उसने तुरन्त कार्रवाई की और जाट- विद्रोह से निपटने के लिए अपने चाचा, ज़फ़रजंग को भेजा। राजाराम जाट ने उसको भी धूल चटाई। उसके बाद औरंगजेब ने युद्ध के लिए अपने बेटे शाहज़ादा आज़म को भेजा। लेकिन उसे वापस बुलाया और आज़म के पुत्र बीदरबख़्त को भेजा। बीदरबख़्त बालक था इसलिए ज़फ़रजंग को प्रधान सलाहकार बनाया। बार-बार के बदलावों से शाही फ़ौज में षड्यन्त्र होने लगे। राजाराम ने मौके का फ़ायदा उठाया, बीदरबख़्त के आगरा आने से पहले ही राजाराम जाट ने मुग़लों पर हमला कर दिया।

    सन् 1688, मार्च में राजाराम ने सिकंदरा में मुग़लों पर आक्रमण किया और 400 मुगल सैनिकों को काट दिया। कहते हैं की राजाराम जाट ने अकबर की कब्र को तोड़ कर उनकी अस्थियों को बाहर निकाला और जला कर राख कर दिया।

    राजाराम जाट एक शूर वीर नायक की तरह उभर आया और मुगलों को उसने धूल चटाई। 4 जुलाई 1688 को मुग़लों से युद्ध करते समय धोखे से उन पर मुगल सैनिक ने पीछे से वार किया और वो शहीद हो गए। राजाराम का सिर काटकर औरंगज़ेब के दरबार मे पेश किया गया और रामचहर सोघरिया को जिंदा पकड़कर आगरा ले जाया गया जहां उनका भी सिर कलम कर दिया गया।

     

    हमारी किताबें हमें इन शूर-वीर नायकों के बारे में नहीं बताती और ना ही कोई इन पर सिनेमा बनाता है। ऐसा करने से भारत की सेक्यूलरिस्म खतरे में आ जाती है। हिन्दु राजाओं को दहशतगर्द बताकर मुगल मतांदों को महानायक बताना सेक्युलरिस्म है। भारत के सच्चे इतिहास को छुपाकर झूठ फैलाकर वर्षों से लोगों को मूर्ख बनाया गया है। सत्य को चाहे लाख छुपाए लेकिन सत्य नहीं छुपता और एक न एक दिन उजागर होता ही है।

    जाट समाज मे 4 जुलाई को राजाराम जाट के बलिदान दिवस के रूप में मनाया जाता हैं।


    Comments

    Popular posts from this blog

    10 Best Programming wallpaper and Programmer Status

        In this post you all will get the best programmer status for your whatsapp status or Facebook post,Instagram post . Programming is the art of developing the things you want as a programmer .You need to have the basic knowledge of programming to understand all the programming status . we have created 10 best programmer status for you  happy coding :)  #1  while(!success) {       work(); } #2 if(person.isAlive) {      Code(); } #3 There is no place like  27.0.0.1 #4 Trust me I’am Programmer #5 Think Twice Code Once #6 Life Has No Ctrl+z #7 // No Comment /* No Comments */  #8 while(true) {      Problem++; }     #9 while(Alive) {            Eat();        Code();        Sleep(); } #10 Programmingis Thinking Not Typing    

    Jaat History In Hindi

    Jaat History In Hindi  1. शिव से जाट की उत्पत्ति एक अन्य पौराणिक मान्यता के अनुसार शिव की जटाओं से जाट की उत्पत्ति मानी जाती है। यह सिद्धान्त देव संहिता में उल्लेखित है। देव संहिता की इस कहानी में कहा गया है कि शिव के ससुर राजा दक्ष ने हरिद्वार के पास कनखल में एक यज्ञ किया था। सभी देवताओं को तो यज्ञ में बुलाया पर न तो महादेवजी को ही बुलाया और न ही अपनी पुत्री सती को ही निमंत्रित किया। शिव की पत्नि सती ने शिव से पिता के घर जाने के लिये पूछा तो शिव ने कहा- तुम अपने पिता के घर बिना बुलाये भी जा सकती हो, सती जब पिता के घर गयी तो वहां शिव के लिये कोई स्थान निर्धारित नहीं था, न उनके पति का भाग ही निकाला गया है और न उसका ही सत्कार किया गया। उलटे शिवजी का अपमान किया और बुरा भला कहा गया। अपने पति का अपमान देखकर, पिता तथा ब्रह्मा और विष्णु की योजना को ध्वस्त करने के उद्देश्य से उसने यज्ञ-कुण्ड में छलांग लगा कर प्राण दे दिये। इससे क्रुद्ध शिव ने अपने जट्टा से वीरभद्र नामक गण को उत्पन्न किया। वीरभद्र ने जाकर यज्ञ को भंग कर दिया. आगन्तुक राजाओं का मानमर्दन किया। ब्रह्मा और विष्णु को य

    Jat history of lohagarh fort in hindi

       Jat history of lohagarh fort in Hindi लोहागढ़ दुर्ग ➡ भरतपुर History of Lohagarh Fort संस्थापक ➡ महाराजा सूरजमल जाट निर्माण ➡ 1733 स्थान ➡ भरतपुर ( राजस्थान ) महाराजा सूरजमल द्वारा संस्थापित भरतपुर दुर्ग का निर्माण 1733 ई . में सौघर ( या सौगर ) के निकट प्रारम्भ हुआ तथा 8 वर्ष में बनकर तैयार हुआ । History of Lohagarh Fort in Hindi पूर्व में यहाँ एक मिट्टी की गढी ( चौबुर्जा ) थी जिसे 1708 ई . में लुहिया गाँव के जाट खेमकरण द्वारा बनवाया गया था । लोहागढ़ दुर्ग के चारों ओर एक गहरी खाई हैं जिसमें मोती झील से सुजानगंगा नहर द्वारा पानी लाया गया है । यह झील रूपारेल और बाणगंगा नदियों के संगम पर उनका जल को बाँध के रूप में रोककर बनाई गई हैं । लोहागढ़ दुर्ग के प्रवेश द्वार पर अष्ट धातु से निमित्त सुन्दर कलात्मक एवं अत्यधिक मजबूत दरवाजा लगा हुआ है जिसे तत्कालीन महाराजा जवाहरसिंह 1765 में दिल्ली में मुगलों से जीतने के बाद लाल किले से लाये थे । जनश्रुति के अनुसार यह द्वार चित्तौड़गढ़ दुर्ग से उठाकर अलाउद्दीन खिलजी दिल्ली ले गया था । मुगलों पर विजय के उपलक्ष में दुर्ग में जवाहर बुर्ज '