Skip to main content

jaat Status In English

 

Jaat status in English

 

No If No But only JAAT

 


I Am JAAT
With A Cool Attitude

 

 

Everyone Fears Yamraj,
Yamraj Is Only Afraid Of JAAT

 

 

All the Rules are made..
to be break.

 

 

We are JAAT
We broke Bones not heart

 


Life Is Too Short.
Don’t west 'dispute with Jaat'.

 

 

On The Bad Guys,
The Jaat Touches And Jaat Hits.

 

 

Jaat Look Silent From Outside,
But They Keep The Storm Inside

 

 

Son, Who Is Stuck In Front Of
After Talking Jat

 

 

Jaat  Our Status Is Not Out Of
Our Loud Looks By Enemy Noise.

 

 

Jaat Style And Banna’s
Looks Is Good And Fearful

 

 

We are JAAT,
Always our drug is widely Available.

 

 

We Jaat
Do Not Punish The Enemies,
They Just Drop By Sight.

 


Never Fall Jaat
Never Fall Jaat  Pride
But In The Fall Of Jaat
People Have Fallen Many Time

 

Jaat Attitude status in English


The goal is not to be rich ,
the Goal is to be legend.

 

 


My circle is small because
i’m into quality not quantity!

 

 

Jaat is a puzzle,
which u can’t solve

 

 


If You Are Bad,
I’m Your Dad…!

 

 


Don’t be a slave in heaven.
Be a king of hell.

 

 


Similar Jaat Status is available on our website StatusWallpaper.com  then you can also see the rest of the status.


Comments

Popular posts from this blog

10 Best Programming wallpaper and Programmer Status

    In this post you all will get the best programmer status for your whatsapp status or Facebook post,Instagram post . Programming is the art of developing the things you want as a programmer .You need to have the basic knowledge of programming to understand all the programming status . we have created 10 best programmer status for you  happy coding :)  #1  while(!success) {       work(); } #2 if(person.isAlive) {      Code(); } #3 There is no place like  27.0.0.1 #4 Trust me I’am Programmer #5 Think Twice Code Once #6 Life Has No Ctrl+z #7 // No Comment /* No Comments */  #8 while(true) {      Problem++; }     #9 while(Alive) {            Eat();        Code();        Sleep(); } #10 Programmingis Thinking Not Typing    

Jaat History In Hindi

Jaat History In Hindi  1. शिव से जाट की उत्पत्ति एक अन्य पौराणिक मान्यता के अनुसार शिव की जटाओं से जाट की उत्पत्ति मानी जाती है। यह सिद्धान्त देव संहिता में उल्लेखित है। देव संहिता की इस कहानी में कहा गया है कि शिव के ससुर राजा दक्ष ने हरिद्वार के पास कनखल में एक यज्ञ किया था। सभी देवताओं को तो यज्ञ में बुलाया पर न तो महादेवजी को ही बुलाया और न ही अपनी पुत्री सती को ही निमंत्रित किया। शिव की पत्नि सती ने शिव से पिता के घर जाने के लिये पूछा तो शिव ने कहा- तुम अपने पिता के घर बिना बुलाये भी जा सकती हो, सती जब पिता के घर गयी तो वहां शिव के लिये कोई स्थान निर्धारित नहीं था, न उनके पति का भाग ही निकाला गया है और न उसका ही सत्कार किया गया। उलटे शिवजी का अपमान किया और बुरा भला कहा गया। अपने पति का अपमान देखकर, पिता तथा ब्रह्मा और विष्णु की योजना को ध्वस्त करने के उद्देश्य से उसने यज्ञ-कुण्ड में छलांग लगा कर प्राण दे दिये। इससे क्रुद्ध शिव ने अपने जट्टा से वीरभद्र नामक गण को उत्पन्न किया। वीरभद्र ने जाकर यज्ञ को भंग कर दिया. आगन्तुक राजाओं का मानमर्दन किया। ब्रह्मा और विष्णु को य

Jat history of lohagarh fort in hindi

   Jat history of lohagarh fort in Hindi लोहागढ़ दुर्ग ➡ भरतपुर History of Lohagarh Fort संस्थापक ➡ महाराजा सूरजमल जाट निर्माण ➡ 1733 स्थान ➡ भरतपुर ( राजस्थान ) महाराजा सूरजमल द्वारा संस्थापित भरतपुर दुर्ग का निर्माण 1733 ई . में सौघर ( या सौगर ) के निकट प्रारम्भ हुआ तथा 8 वर्ष में बनकर तैयार हुआ । History of Lohagarh Fort in Hindi पूर्व में यहाँ एक मिट्टी की गढी ( चौबुर्जा ) थी जिसे 1708 ई . में लुहिया गाँव के जाट खेमकरण द्वारा बनवाया गया था । लोहागढ़ दुर्ग के चारों ओर एक गहरी खाई हैं जिसमें मोती झील से सुजानगंगा नहर द्वारा पानी लाया गया है । यह झील रूपारेल और बाणगंगा नदियों के संगम पर उनका जल को बाँध के रूप में रोककर बनाई गई हैं । लोहागढ़ दुर्ग के प्रवेश द्वार पर अष्ट धातु से निमित्त सुन्दर कलात्मक एवं अत्यधिक मजबूत दरवाजा लगा हुआ है जिसे तत्कालीन महाराजा जवाहरसिंह 1765 में दिल्ली में मुगलों से जीतने के बाद लाल किले से लाये थे । जनश्रुति के अनुसार यह द्वार चित्तौड़गढ़ दुर्ग से उठाकर अलाउद्दीन खिलजी दिल्ली ले गया था । मुगलों पर विजय के उपलक्ष में दुर्ग में जवाहर बुर्ज '